होम City News पैदा होने से लेकर आज 17 साल हो गए नही खाया आज...

पैदा होने से लेकर आज 17 साल हो गए नही खाया आज तक खाना

पैदा होने से लेकर आज तक नहीं खाया कभीं खाना

यह सुनकर आप को हैरानी होगी आपको, पर हमारा सवाल हैं आपसें, की क्या कोई शख्य सिर्फ दुध पिकर रह सकता है क्या पैदा होनें सें लेकर आज तक, लेकिन ऐसा है एक युवा जीसकी उम्र 17 साल है जो सिर्फ दुध पिकर जीवन जी रहा है क्या ऐसा हो सकता हैं….??? इस सवाल पर हमारा जबाब हैं हाँ….मात्र दुध पिकर जिया जा सकता हैं….

यह कहानी हैं महाराष्ट्र कें चंद्रपुर जिलें की है , चंद्रपुर जिले कें पोभूर्णा तहसिल में हैं जामखुर्द नाम का गाँव है । गाँव के एक निवासी का नाम हैं गुरुदास मडावी। गुरुदास मडावी कें बेटे का नाम हैं भुजंग है जो पैदा होनें सें आज तक (उम्र 17 साल) तक भुजंग नें दुध के सिवा कुछ नहीं खाया है।

गुरुदास एवं सुनिता मडावी कें घर 23 अगस्त 2005 में भुजंग नें जन्म लिया, किंतु पैदा होनें सें आज तक भुजंग नें अपनें असाधारण होनें का परिचय दिया हैं। जन्म कें बाद 12 दिनों तक भुजंग नें अपनी आँखें नहीं खोली थी और ना माँ का दूध पिया था और तेहरवें दिन उसनें आँखें खोली और माँ का दुध पिया, तब जाकर सबकें जान में जान आयी।

भुजंग के पिता गुरुदास मडावी ने बताया कि जब पैदा हुआ था तो भुजंग के 6-7 महिनों होने के बाद उसे दाल-चाँवल खिलानें का भरपुर कोशिश की गई उसे बिस्कुट देनें का हुआ प्रयास किया गया लेकिन सभीं कोशिश नाकामयाब रही दुध कें सिवा कुछ भीं खिलानें की कोशीष की तो भुजंग चिल्लाता हैं और पूरा घर सर पर उठा लेता हैं। बचपन से लेकर ब तक भुजंग की यही स्टाईल रहीं हैं।

गुरुदास मडावी एकदम गरीब हैं.मेहनत मजदुरी ही उसकें पेट का सहारा हैं ऐसे स्थिती में दुध की किमत उनकें बस की बात नहीं है। आधा लिटर दुध में भुजंग गुजारा कर लेता हैं कई बार दुध नसिब नहीं हुआ तो वह खाली पेट गुजारा कर लेता हैं पर दाल-चाँवल-रोटी खाना नहीं खाता है।

गुरुदास मडावी के अनुसार, भुजंग की उम्र कें छ: वर्षतक उसका इलाज किया गया, ताँकी वह खाना खायें पर नहीं हुवा कुछ फायदा केवल दुध ही उसका आहार बना। डॉक्टरों कें अनुसार भुजंग मेडिकली फिट हैं खाना नहीं तो बैलन्स डायट नहीं, पर इस बात का किसी भीं प्रकार का इफेक्ट भुजंगपर नहीं हैं।

भुजंग दसवी का छात्र हैं देवाडा खुर्द गाँव कें राष्ट्रमाता विद्यालय सें उसकी पढाई जारी हैं वह लिख, पढ एवं बोल नहीं सकता उसकी पढाई का मतलब हैं कॉपी में लाईनें खिंचना पर वह सब समझता हैं।

भुजंग यह मेडिकल सायन्स कें लिये बडा अभ्यास विषय हैं किंतु आज तक और अभीं तक भुजंग को लेकर किसी भीं प्रकार का ना मेडिकल स्टडी हुयी हैं और ना भुजंग की दुध की समस्या किसी नें सुलझायी हैं।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Must Read

मोबाईल चोरों के ऐसे गिरोह का परदफ़ास किया जो यह से चुरा कर बांग्लादेश और नेपाल भेजते थे

मोबाईल चोरों के ऐसे गिरोह का परदफ़ास किया जो यह से चुरा कर बांग्लादेश और नेपाल भेजते थे 248...

रागिनी फिल्म्स के बैनर तले लखनऊ में बनेगी हिंदी फिल्म, दशहरा के अवसर पर मुहूर्त संपन्न

रागिनी फिल्म्स के बैनर तले लखनऊ में बनेगी हिंदी फिल्म, दशहरा के अवसर पर मुहूर्त संपन्न लखनऊ : फ़िल्म...

ईद मिलाद-उन-नबी के जुलूस को सरकार इजाजत दे नही तो हर मस्जिदों से जुलूस निकलेगा

ईद मिलाद-उन-नबी के जुलूस की अगर सरकार ने नहीं दी अनुमति तो हर मोहल्ले की मस्जिदों से जुलूस निकलेगा

महाराष्ट्र में नहीं होगी बिजली की कटौती : अजित पवार

महाराष्ट्र में नहीं होगी बिजली की कटौती : अजित पवार नवी मुंबई :संवाददाता महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री...

किरायेदार नें किया मकान मालिक को आत्महत्या को मजबूर

किरायेदार नें किया मकान मालिक को आत्महत्या को मजबूर…. किरायदार कें धमकियों सें तंग आकर मकान मालिक नें किया...