होम News महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने क्या कहा महाराष्ट्र की जनता से

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने क्या कहा महाराष्ट्र की जनता से

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने क्या कहा महाराष्ट्र की जनता से कोरोना की मौजूदा स्तिति और आगे की क्या होगी सरकार की नीति।


मुंबई – तृप्ति निंबुलकर

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र की जनता को संबोधित करते हुए कई मुद्दों पर सरकार की भूमिका रखी।
क्या कहा उद्धव ठाकरे ने एक नजर डालते है एहम मुद्दों पर …
 आज 1 मई है, महाराष्ट्र का स्थापना दिन और आज कामगार दिन भी है। आपको दोनों ही दिनों की शुभेच्छा देता हूं। संयुक्त महाराष्ट्र के कारण मुझे मेरे दादा और पिता की कहानियां याद आती हैं। वो भी संघर्ष का समय था। बलिदान के कारण ही मुम्बई महाराष्ट्र को मिल पाया है आज उन्हें मैं वंदन कर रहा था जिनके कारण संयुक्त महाराष्ट्र संभव हो पाया है।मेरा पूरा परिवार भी इस लड़ाई से जुड़े थे। अनेक लोग उस लड़ाई में शामिल थे। आज उन सभी को वंदन किया।

आज कामगार दिन भी है। सभी कामगार जिन्होंने संघर्ष में हिस्सा लिया उन सभी को भी मैं सलाम करता हूँ।  मुझे 2010 याद है जब संयुक्त महाराष्ट्र के 50 साल पूरे हुए थे और बड़े अछि तरह से तब भी इसको मनाया गया था। लाखों लोग आए हुए थे।आज महाराष्ट्र के स्थापना को 60 साल पूरे हो गए। हर साल 1 मई को अनेक कार्यक्रम होते थे लेकिन इस साल नहीं हुआ है। लेकिन यह समय भी निकल जाएगा। उस समय बीकेसी में इसे मनाया गया था और आज उसी बीकेसी में हम कोरोना के खिलाफ सेंटर बनाकर लड़ रहे हैं। 
गोरेगांव में 2010 में रक्त दान किया था और बड़े पैमाने में लोग आए थे, आज उसी जगह पर बेड रखा गया है,कोरोना से जंग जीतने के लिए। 
महाराष्ट्र ने पहले भी लड़ाई जीती है और आज भी कोरोना के खिलाफ जो जंग जारी है वो भी जीतेंगे

1960 में भी लता मंगेशकर ने महाराष्ट्र के लिए शिवाजी पार्क में गीत गाया था और 2010 में भी उन्होंने दोबारा गाना गाया था। आज 60 साल पूरे हो गए और कोरोना के खिलाफ अब हम लड़ रहे हैं
 3 तारीख तक लोकडाउन है उसके बाद क्या ये सब कह रहे है इसका क्या मतलब अब सवाल खडा हो रहा है, मैं बता दु इस पर हमने कंटोल लाया है, महाराष्ट्र ने जो आज तक उपक्रम या युद्ध करता आया है, उसी तरह का एक युद्ध आज कोरोना से चल रहा है।ये युद्ध भी हम जीतेंगे आज तक हम महाराष्ट्र की परंपरा कभी भी किसी युद्ध से हारा नही है।और इस तरह की जीत का संदेश हमेशा से महाराष्ट्र औरो को देता आ रहा है।
मुझे लड़ाई की कोई भी परवाह नही है।मुझे पता है, की आप सभी का आशीर्वाद मुझे प्राप्त है। फिर भी आंकड़े बढ़ रहे है।क्यो बढ़ रहे है, आंकड़े ये इसलिए होता है,क्यों कि जहां जो भी जब पहला मामला सामने आया है, तो उनके  संपर्क में आए सभी लोग इससे बाधित होते दिख रहे है।  जितने लोग बाधित हो रहे है उतने प्रमाण में कुछ लोग रोजना ठीक होकर घर भी जा रहे है। 2 लाख से जड़ लोगो का टेस्ट किया गया है  अब तक ,  जो अब मरीज  साथ मे आ रहे है उसमे से ऐसे लोग है जिन्मे कोई लक्षण नही दिख रहा है , ऐसे लोगो को टेस्ट कराना जरुरी है , हम अपनी जांच प्रक्रिया को लेकर कहि भी कोताही नही कर रहे है।
 3 तारीख के बाद क्या किया जाएगा उसे लेकर सवाल पूछा जा रहा है। हमने यह लॉक डाउन कोरोना के गति को तोड़ने के लिए किया है और उसमें हम सफल हुए हैं।अब गुणाकार धीरे धीरे कम होते जा रहे हैं। हमने कई जगहों पर कंटेन्मेंट ज़ोन बनाया, जगहों को सील किया और शुरुआत में कुछ लोगों को हुए इस कोरोना के कारण भी यह फैला था लेकिन अब हालात ठीक हो रहे हैं। कोरोना के कारण लोगों में दहशत है, लेकिन डरने की ज़रूरत नहीं। कोई लक्षण हैं तो आप इसकी जानकारी दें, इससे डरने की कोई ज़रूरत नहीं। समय पर आने पर इलाज पूरी तरह से कर लोगों को घर भी छोड़ा गया है।

मुम्बई और कल्याण के महापौर भी सामने आकर मदद कर रहे हैं।

हमें जो भी नई तकनीक के बारे में पता चल रहा है उसे भी हम लागू कर रहे हैं। राज्य में करीब 20 हज़ार लोगों ने कोरोना योद्धा में शामिल होने की इच्छा जताई है, करीब 10000 लोग इसके लिए पूरी तरह तैयार हैं।
 जितने रुग्ण की संख्या हमारे पास है उनमें से 75 से 80 फीसदी लोगों में लगभग कोई लक्षण नहीं है। फिर भी उन्हें हमने आइसोलेशन में रखा है ताकि मामले ना बढ़ें ।

 अब हम घरों में जाकर लोगों की जांच कर रहे हैं और करीब 2 लाख लोगों की जांच राज्य में की गई है जिससे समझ आता है कि शरीर में ऑक्सीजन कितना है। अगर कोई पहले से बीमार है तो उसपर कैसा असर होगा वो पता लगाकर भी उनकी जाँच की जा रही है
 सभी राज्य एक दूसरे से संपर्क में है।लोगो के आदान –प्रदान के लिए।एक साथ सभी को नही लेकर।जिस जिस जगह से व्यक्ति ताल्लूक रखते है, वहां के कलेक्टर से बात करके हम धीरे –धीरे लोगो के आदान -प्रदान करने की जल्द ही शुरुवात करनेवाले है।
रेड ज़ोन में धीरे धीरे हालात सुधारने की प्रयास की जा रही है।

3 तारीख के बाद अब कितनी बंधन है, उतनी बंधने नहीं होंगी, कुछ सुधार होगा लेकिन लोगों को भी ख्याल रखने की ज़रूरत है। एकसाथ सब शुरू कर इसे खराब नहीं करना है। धीरे धीरे इसे किया जाएगा

ज़रूरत है कि प्राइवेट डॉक्टर भी सामने आएं और प्रशासन की मदद करें। कई जगहों पर यह हुआ भी है 

यह सच है कि इसका आर्थिक स्थिति पर असर पड़ा है। लेकिन राज्य और देश की पहली प्राथमिकता लोग होते हैं, लोगों को बचाने के बाद आर्थिक हालात का ख्याल रखा जा सकता है। 
3 तारीख के बाद जो तीन ज़ोन हैं रेड ज़ोन, ऑरेंज और ग्रीम ज़ोन हैं
रेड में मुम्बई, ठाणे ,कल्याण, डोम्बिवली, पुणे, नागपुर के इलाके शामिल जिसमें कई परेशानी है
ऑरेंज ज़ोन में अब मामले नहीं आ रहे हैं और जो दूसरे जगह हैं वहाँ ओर धीरे धीरे हालात बेहतर हो रहे हैं
ग्रीन ज़ोन में सबकुछ शूरु करने की बात पहले की थी

इससे पहले ही कहा था कि जो पर प्रांतीय मजदूर हैं उन्हें वापस भीजने के लिए भी तैयारी की जा रही है। राज्य के अंदर भी लोग कोई दूसरी जगह फंसे हैं,सबको वापस लाया जाएग्व, लेकिन एक सतह नहीं, प्राथमिकता के आधार पर किया जाएगा

खेती पर कोई बंधन नहीं है यह बात मैंने पहले भी साफ की है

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Must Read

03 दिसंबर – महाराष्ट्र कोरोना अपडेट

03 दिसंबर - महाराष्ट्र कोरोना अपडेट महाराष्ट्र में कोरोना मरीजो की ठीक होनेवालों की संख्या 17 लाख पार।

बांगुर नगर पुलिस ने 3 विदेशी नागरिकों को पकड़ा जिसके पास से लाखों रुपये के कोकीन मिले..

बांगुर नगर पुलिस ने 3 विदेशी नागरिकों को पकड़ा जिसके पास से लाखों रुपये के कोकीन मिले.. मुंबई :...

मसाला किंग MDH कंपनी के मालिक महाशय धर्मपाल गुलाटी का निधन हो गया …

मसाला किंग MDH कंपनी के मालिक महाशय धर्मपाल गुलाटी का निधन हो गया ... मसाला किंग के नाम से...

मालेगांव बम धमाके मामले में सभी आरोपियों हाजिर होने का आदेश

मालेगांव बम धमाके मामले में सभी आरोपियों हाजिर होने का आदेश 3 दिसंबर से रोजाना होगी सुनवाई

जी. पी.एल कप- 2020 का गोहका में आयोजन

जी. पी.एल कप- 2020 का गोहका में आयोजन जौनपुर: मछली शहर के गोहका में जी पी एल हैंडरम  कप...