होम Strategy Politics वाधवान ग्रुप मामले को लेकर राजनीति गर्म

वाधवान ग्रुप मामले को लेकर राजनीति गर्म

वाधवान ग्रुप मामले को लेकर राजनीति गर्म
पहले बीजेपी महाविकास आघाड़ी सरकार पर साधा निशाना बीजेपी का आरोप आईपीएस अधिकारी अमिताभ गुप्ता ने-किसके आदेश पर सरकारी पत्र दिया इस बाबत की जांच की मांग

महाराष्ट्र कांग्रेस प्रवक्ता सचिन सावंत का आरो वाधवान समूह पर बीजेपी का है, बड़ा आशीर्वाद वाधवान समूह ने बीजेपी को दिए है, 20 करोड़ का डोनेशन अमिताभ गुप्ता के पत्र के पीछे पुरि तरह से है, बीजेपी हांथ।

वाधवान ग्रुप के लोगो को महाबलेश्वर घूमने जाने का मामला अब महारास्ट्रा की राजनीति में राजनीतिक रंग लेता नजर आ रहा है।एक तरफ राज्य के पुर्व मुख्यमंत्री और अपोजिशन लीडर देवेंद्र फड़नविश ने इस मामले में महाविकास आघाड़ी सरकार पर निशाना साधते नजर आए देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि राज्य सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि लोकडाउन के दौरान किसी को भी घर से निकलने की अनुमति नही है अगर किसी की मृत्यु भी हो जाय तो बिना अनुमति के नही जा सकते है ऐसे वक्त में वाधवान को सरकारी पत्र के जरिये खंडाला से महाबलेश्वर तक जाने का मौका मिल जाता है कोई भी सरकार अधिकरी बिना कीसी के आदेश के किसी को पत्र नही देता है इसकी जांच हो कि किसके कहने पर हुआ है , अगर इसी तरह किसी मामले में आरोपी को सहूलियत मिलती रही तो कानून ब्यवस्ता का क्या होगा , ग्रहमन्त्री और सीएम इस बात का खुलासा करे।

लॉक डाउन की इस गंभीर स्थिति में बीजेपी के हाथ वाधवान ग्रुप के इस मामले को ऐसे भुनाने की कोशिस करते दिखे , जैसे आइपीएस अधिकारी के दिये गए सरकारी आदेशवाला पत्र ठाकरे सरकार की लॉक डाउन की इस स्थिति में मुसीबते बड़ा सकता है।फड़नविश के वाद बीजेपी के पुर्व सांसद किरीट सोमैया सीधे मुलुंड के नवघर पुलिस स्टेशन पहुंचे और वाधवान समूह को पत्र देनेवाले गृह विभाग के प्रिंसिपल सेकेट्ररी अमिताभ गुप्ता के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई , जिसमे किरीट ने ये कहा ,कि आइपीएस अधिकारी अमिताभ गुप्ता ने वाधवान परिवार को गैरकानूनी तरीके से सहूलियत प्रोवाइड की,जो कि कानून के पुरि तरह से खिलाफ है, सोमैया ने अमिताभ गुप्ता के खिकाफ FIR दर्ज कर गुप्ता की गिरफ्तारी की भी मांग की। साथ ही इस पूरे मामले की जांच करने मांग भी की ।

बीजेपी का आरोप लगाने का सिलसिला अभी भी थमा नही।पहले फड़नविश , फिर किरीट सोमैया और अब तीसरे नम्बर परब वाधवान मामले में आरोप लगाने के लिए सामने आये।,बीजेपी विधायक और प्रवक्ता राम कदम। राम कदम ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि वाधवान मामले में सरकार ने प्रिंसिपल सेकेट्री अमिताभ गुप्ता को घर बिठा दिया लेकिन अमिताभ गुप्ता इतने वरिष्ठ है वो किसी नेता के बोलने पर ही यह किया होगा ऐसे में किस नेता ने कहा था उस बारे में खुलासा सरकार करे और इस बाबत जांच करने की मांग कर दी।

अब एक के बाद एक बीजेपी की ओर से किये जा रहे आरोपो को लेकर जवाब देने के लिए पहले खुद महारास्ट्रा के गृहमन्त्री अनिल देशमुख सामने आये।देधमुख ने अपने इस बयान में कहा, की गृहमंत्री अनिल देशमुख ने अपने बयान में कहा , की प्रिंसिपल सेकेट्री को एक लम्बी छुट्टी पर भेज दिया गया है और उनकी जांच के लिए अडिशनल चीफ सेकेट्री मनोज सोनिक को दिया गया है । साथ ही वाधवान पर आईपीसी 188, 269, 270 , 34 डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट 51 बी , कोविड 19 के सेक्सन 11 इस धारा के तहत वाधवान पर कारवाई की जाने की बात भी देधमुख ने कही। वही देशमुख ने अपने बयान में बीजेपी नेता किरिट सोमैया को एक उपद्रवी आदमी बताते हुए ये भी कहा,की गर वाकई इस मामले में किसी के खिलाफ सोमैया कार्यवाही करवाना चाहते है ,तो केंद्र सरकार के जरिये कराये। वाधवान समूह को एक जानकर आईपीएस अधिकारी अमिताभ गुप्ता ने लॉक डाउन की इस गंभीर स्थिति में और वाधवान समूह का पूरा आपराधिक मामला जानते हुए भी आखिकार सरकारी पत्र क्यों दिया गया।ये वाकई।अपने आप मेवेक बड़ा सवाल है।हाला की अब तो सही जांच के बाद ये पता चल सकेगा कि गुप्ता ने खुद या किसके दबाव से वाधवान समूह को सारकारी पत्र दिया ताकि लॉक डाउन की स्थिति में सबंधित सरकारी पत्र के बलबूते वाधवान समूह बड़े आराम से खंडाला से महाबलेश्वर जा सके।

अब इस पुरे मामले को लेकर महारास्ट्रा कांग्रेस के प्रवक्ता सचिन सावंत ने बड़ा बयान देते हुए सीधे -सीधे बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा है,आईपीएस अधिकारी अमिताभ गुप्ता के पत्र के पीछे पुरी तरह दे बीजेपी कंही हांथ होने की पुरी सम्भावना है, कयीं की वाधवान ग्रुप को सबसे बड़ा आशीर्वाद बीजेपी का मिलता रहा है।इतना ही नही वाधवान ने बीजेपी को बड़े स्तर और डोनेशन देने भी शामिल रहा है।सावंत से मिली जानकारी मुताबिक वाधवान ग्रुप की तीन कंपनियों, जिसमे दर्शन डेव्हलपर्स, दिवान हाऊसिंग फायनान्स लिमिटेड इस ग्रुप के जरिये बनाई गई आरकेडब्ल्यू डेव्हलपर प्रा. ली., और स्कील रिअलटर्स प्राइवेट लिमिटेड नकम की इन कंपनियों के जरिये बीजेपी को तकरीबन 20 करोड़ रुपए डोनेशन दिया गया है।

सावंत ने ये भी कहा , की इन तीनो कंपनियो आखिर कर तीन सालों में मुनाफे में न होते हुए भी उन्होंने इतनी बड़ी राशि डोनेशन मे दी।और इस डोनेशन के पूरे खेल में बीजेपी ने चुनाव आयोग को भी सबंधित इन कंपनियों में से दो कंपनियों के पेन डिटेल्स नही दिए।सावंत नेबिस पूरे मामले में बीजेपी पर ही निशाना साधते हुए सीधे कहा है,इस पूरे खेल की सूत्रधार बीजेपी के अलावा और कोई नही है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Must Read

मुंबईकरों के लिए जरूरी सूचना, 2 और तीन दिसंबर को इन इलाकों में नहीं आएगा पानी

मुंबईकरों के लिए जरूरी सूचना, 2 और तीन दिसंबर को इन इलाकों में नहीं आएगा पानी । मुंबई :...

खांसी की दवा से नशा करने वालो पर एन्टी नारकोटिक्स सेल ने शिकंजा कसा…

खांसी की दवा से नशा करने वालो पर एन्टी नारकोटिक्स सेल ने शिकंजा कसा... मुंबई : मुंबई के एन्टी...

एनसीपी के विधायक भारत भालके का कोरोना से हुआ निधन

एनसीपी के विधायक भारत भालके का कोरोना से हुआ निधन , कल देर रात पुणे के रूबी हॉल अस्पताल में भारत भालके...

कंगना रनौत की याचिका पर मुंबई हायकोर्ट ने अपना फैसला सुनाया

कंगना बीएमसी तोडक कार्रवाई मामले पर कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया कोर्ट ने अपने आदेश में क्या कहा महत्वपूर्ण...

चलती लोकल ट्रेन में महिला के साथ छेड़छाड़ और लूट मार करने वाले आरोपी गिरफ्तार

चलती लोकल ट्रेन में महिला के साथ छेड़छाड़ और लूट मार करने वाले आरोपी गिरफ्तार मुंबई के बोरीवली जीआरपी...