होम News बीएमसी की लापरवाही की वजह से साढ़े चार एकड़ का खेल का...

बीएमसी की लापरवाही की वजह से साढ़े चार एकड़ का खेल का मैदान मुंबईकर गवा देगा।

बीएमसी की लापरवाही की वजह से साढ़े चार एकड़ का खेल का मैदान मुंबईकर गवा देगा।

पूर्व नगरसेवक शिवानंद शेट्टी ने बीएमसी पर लगाया आरोप।

मुंबई – संवादाता

मुंबई महानगर पालिका की लापरवाही की वजह से साढ़े चार एकड़ में फैला खेल का मैदान खोने की नोबत मुंबईकरो के सामने आ पडी है। मुम्बई उपनगर के बोरीवली पूर्व इलाके में यह भूखंड है लेकिन बीएमसी की लापरवाही से पिछले 14 सालों से यह भूखंड बीएमसी के ताबे में नही आ सका ऐसा आरोप बोरीवली के पूर्व नगर सेवक शिवानंद शेट्टी ने लगया है।

बोरिवली पूर्व के मागाठाणे गाव के सिटीएस नंबर १७७, १७७/१, १७७/२, १७७/३ इस जमीन के मालिक मेसर्स गार्डन सिक्युरिटीज अँड प्रॉपर्टीज एलएलपी, इन्होंने ऑक्टोबर २००४ में यह जमीन खरीदी को लेकर बीएमसी को और राज्य सरकार को नोटिस भेजी थी एमरटीपी ऍक्ट, १९६६ के धारा 127 के अनुसार नोटिस दी गई थी , इस नोटिस के अनुसार पूरी जमीन बीएमसी और राज्य सरकार ने अब तक अपने ताबे में नही ली 15 सालों में वोह विफल हो चुके है जिसकी वजह से भूखंड आरक्षण कानून रद्द हो चुका है।

आरक्षण रद्द होने के बावजूद भी मुंबई महानगर पालिका अपनी आवश्यकता के अनुसार बोरीवली की यह जमीन भूखंड भूसंपदान कानून के तहत ले सकती है , ऐसा राज्य सरकार ने 2098 में स्पष्ट किया है जिसके आधार पर 2012 में मुंबई महानगर पालिका भूसंपदान अधिनियम कलम 4 व 6 अनवे के आधार पर नया प्रस्ताव जिलाधिकारी के कार्यालय में भेजा गया है । जिस जमीन पर कोई भी सार्वजनिक दृष्टिकोण के अनुसार आरक्षण नही है उस जमीन को भूसंपदान धारा 4 के अनुसार आता है , मतलब , इस जमीन पर अगर किसी प्रकार का अगर कोई आरक्षण नही है तो भी भी महापालिका ऐसी जमीन को आवश्यकता के अनुसार ले सकती है।

इस प्रस्ताव पर किसी भी तरह की कोई कारवाई नही करते हुए जिलाधिकारी कार्यालय ने 2017 में इस प्रस्ताव को बीएमसी को फिर से भेजा और 2014 का नया भूसंपदान कानून के अनुसार नया प्रस्ताव देने की सूचना दी। लेकिन अब भी बीएमसी के अधिकारी इस सुधारित भूसंपदान प्रस्ताव को भेजने में टालमटोल कर रहे है।

विकास नियोजन 2034 के आरखडा बनाने वाली बीएमसी के नगर नियोजन अधिकारी के अनुसार बोरिवली का यह जमीन सब-सिटी पार्क का भाग है , महानगरपालिका द्वारा प्रकाशित किये गए रिपोर्ट के अनुसार यह जमीन जिस जगह है उस आर-मध्य प्रभाग में 230 के हेक्टर्स में खाली जमीन की गरज है जिसमे 63 हेक्टर्स जमीन की कमी है जिसको देखत्ते हुए बोरीवली के नागरिकों के लिए और मुम्बई के विकास के लिए जल्द यह जमीन अपने ताबे में ली जाय ऐसी मांग वहा के स्थानिक नागरिकों ने की है।

कोट-

बढ़ते शहर की वजह से मुम्बई में हरियाली और खाली जमीन की संख्या घट रही है ऐसे में बीएमसी की ढिलाई की वजह से एक खाली जमीन मुम्बईकरो को खोनी पड़ सकती है, बोरीवली में बढ़ती जनसंख्या को देखते हुए यहा खाली जमीन की कमी है ऐसे में साढ़े चार एकड़ खाली जमीन खोना सही नही होगा ऐसे में बीएमसी द्वारा जल्द उचित कारवाई करते हुए इस जमीन को बचाना चाहिए।

– शिवानंद शेट्टी, पूर्व नगरसेवक

खेल के मैदान की इस इलाके के लोगो को जरूरत है , बीएमसी और जिलाधिकारी द्वारा सिर्फ कागजी कामकाज बस एक दिखावा है यह निंदनीय है।

– नंदकुमार मोरे, स्थानिक रहिवाशी व सामाजिक कार्यकर्ते

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Must Read

03 दिसंबर – महाराष्ट्र कोरोना अपडेट

03 दिसंबर - महाराष्ट्र कोरोना अपडेट महाराष्ट्र में कोरोना मरीजो की ठीक होनेवालों की संख्या 17 लाख पार।

बांगुर नगर पुलिस ने 3 विदेशी नागरिकों को पकड़ा जिसके पास से लाखों रुपये के कोकीन मिले..

बांगुर नगर पुलिस ने 3 विदेशी नागरिकों को पकड़ा जिसके पास से लाखों रुपये के कोकीन मिले.. मुंबई :...

मसाला किंग MDH कंपनी के मालिक महाशय धर्मपाल गुलाटी का निधन हो गया …

मसाला किंग MDH कंपनी के मालिक महाशय धर्मपाल गुलाटी का निधन हो गया ... मसाला किंग के नाम से...

मालेगांव बम धमाके मामले में सभी आरोपियों हाजिर होने का आदेश

मालेगांव बम धमाके मामले में सभी आरोपियों हाजिर होने का आदेश 3 दिसंबर से रोजाना होगी सुनवाई

जी. पी.एल कप- 2020 का गोहका में आयोजन

जी. पी.एल कप- 2020 का गोहका में आयोजन जौनपुर: मछली शहर के गोहका में जी पी एल हैंडरम  कप...